प्यार बना पागलपन – नेहा की हिंदी लव स्टोरी


दोस्तों इस दुनिया में प्यार करने वाले बहुत है और इसीलिए मैं उन सबके साथ अपनी इस हिंदी लव स्टोरी को शेयर करना चाहती हू ताकि हर किसी को पता चले कि प्यार में कैसे-कैसे experience होते है.


मेरा नाम नेहा है और ये उन दिनों की बात है जब मैं ग्रैजुएशन फ़र्स्ट इयर में थी। मैंने एक इंग्लिश स्पीकिंग कोर्स जॉइन किया था। वहाँ मेरी मुलाकात रोहित से हुई। रोहित बहुत हैंडसम लड़का था। कुछ ही दिनों में हम दोनों मे अच्छी दोस्ती हो गई। क्लास खत्म होने के बाद हम बाहर खड़े होकर घंटों बातें करते थे।
मैं मन ही मन रोहित को चाहने लगी थी। लेकिन रोहित के मन में मैं नहीं,  मेरी फ्रेंड पूजा थी। पूजा तक पहुँचने के लिए ही रोहित ने मुझसे दोस्ती बढ़ाई थी। एक दिन रोहित ने मुझसे कहा कि उसे पूजा अच्छी लगती है। मैं उस दिन बहुत रोई। रोहित मेरा पहला प्यार था। मैंने सपने में भी नहीं सोचा था कि ऐसा कुछ होगा। फिर भी मैं रोहित से बात करती रही।

मेरी और रोहित की दोस्ती बढ़ती ही जा रही थी। क्लास बंद हो गई थी लेकिन हमारा मिलना जुलना बंद नहीं हुआ। रोहित भी अब मुझे प्यार करने लगा था। पूजा की तरफ वो आकर्षित तो था लेकिन उसको अब मेरी आदत हो गई थी।
पढ़िए “ कसम से, आप रो देंगे ये स्टोरी पढ़ कर” हिंदी लव स्टोरी
मैं रोहित को खो देने के डर से उसकी हर बात झट से मान लेती थी। रोहित ने मेरी इस आदत का गलत फायदा उठाया। रोहित मेरे बाहर आने जाने, कपड़े पहनने, किसी से बात करने, हर चीज में रोक टोक करने लगा। रोहित पर एक सनक सी सवार हो गई थी। वो हर समय मुझ पर शक करता।  मुझे इंसान ना समझ कर कोई कठपुतली समझने लगा था।  मुझे उस रिश्ते में घुटन होने लगी थी। हर समय मुझे महसूस होता जैसे मैं कोई कैदी हूँ। रोहित का प्यार अब पागल पन बनता जा रहा था।
एक दिन भी ना मिल पाये तो वो अजीब हरकतें करने लगता था। कई बार उसने मुझ पर हाथ भी उठा दिया था। रोहित के व्यवहार के कारण हमारे झगड़े बढ़ते जा रहे थे। हर रोज मैं रो कर ही सोती थी।

ग्रैजुएशन पूरा हो गया था। रोहित मुझ पर शादी करने का दबाव बनाने लगा। लेकिन मैंने रोहित के साथ जिन्दगी बिताने से अलग हो जाना बे‍हतर समझा। मैं सारी जिंदगी रो कर नहीं बिताना चाहती थी। मैंने फैसला किया कि पापा के ट्रान्सफर की बात रोहित को नहीं बताऊँगी।

रोहित को बिना बताए मैं नये शहर चली आई। उसने मुझे ढूँढने की बहुत कोशिश की। मुझे बहुत फोन किये, मैसेज भी किये कि वो सबके सामने मुझे बदनाम कर देगा लेकिन मैंने कोई रिप्लाई नहीं किया। और अपना नंबर बंद कर दिया। रोहित को मेरा पता मिल जाता तो सनकी रोहित कुछ भी कर सकता था। लेकिन अंत में उस सनकी आशिक से मुझे छुटकारा मिल ही गया।
दोस्तों ये थी मेरी हिंदी लव स्टोरी । ऐसा कई लड़कियों के साथ होता है और ये हम लड़कियों के लिए बिलकुल भी safe नहीं. प्यार में थोडा पागलपन तो चलता है लेकिन जब पागलपन हद से ज्यादा बढ़ जाए तो ये खतरनाक हो सकता है ।

No comments:

Post a Comment